डिप्रेशन क्या है, इसके कारण,लक्षण और उपचार। Depression Treatments in Hindi.

Depression Treatments in Hindi

दोस्तों डिप्रेशन बच्चों , बडों ,बूढ़ो में से किसी को भी हो सकता है। WHO ( विश्व स्वास्थ्य संगठन ) की रिपोर्ट के अनुसार भारत दुनिया का सबसे बड़ा Depressed Country है। यहाँ लगभग 36% लोग Depressed हैं, पर ज्यादातर लोग नहीं जानते की वो Depression के साथ जी रहे हैं और जो जानते हैं उनमे से सिर्फ 9% लोग मानते हैं की वो डिप्रेशन में हैं या थे और डिप्रेशन से लड़ रहे हैं।

 हम कई  बार दुःखी feel करते हैं, क्योंकि दुःख भी एक खुशी की तरह Natural Human Emotion है। आप अपने आप को यदि अयोग्य मान रहे हैं ,यदि आप बिना कोई कारण कुछ भी मन में सिर्फ सोचकर दुःखी महसूस कर रहे हैं, और आपके दुःख का कारण किसी को आप बता नहीं पा रहे हैं, तो ये डिप्रेशन है।

[mc4wp_form id=”1974″]

डिप्रेशन की Definition –

                                        डिप्रेशन एक डिसऑर्डर है, इसमें हमेशा उदासी, मजेदार चीजों में Interest ख़त्म होना, और जल्दी से बहुत ज्यादा उत्साहित होने के साथ ही जल्दी गहरी निराशा में खोना, और ये महसूस करना की ये जीवन जीने योग्य नहीं है,  इसको डिप्रेशन कहा जाता है। ये एक मानसिक अवस्था है, इसका इलाज आसानी से संभव है, बड़े – बड़े लोग डिप्रेशन में जा चुके हैं, और डिप्रेशन से बाहर भी आ चुके हैं ,जैसे बॉलीवुड की सफलतम एक्ट्रेस -दीपिका पादुकोण।  दीपिका ने डिप्रेशन में होने की बात खुद कही थी।

डिप्रेशन के कारण –

                              डिप्रेशन के बहुत से कारण हैं जैसे – नौकरी चली गयी हो और उसके बाद लम्बे समय तक आपको कोई नौकरी या कोई काम ना मिला हो, Financial losses, अपनी ऐसी कोई गलती जिसकी वजह से आपको और आपके परिवार को कोई नुकसान उठाना पड़ा हो तो अब आप बार- बार अपने आपको कोसते है ये भी डिप्रेशन का सबसे बड़ा कारण है, किसी अपने परिवारजन को खोने के बाद आप उसकी यादों को लम्बे समय तक भुला नहीं पा रहे हैं, जेनेटिक कारण -परिवार में पहले किसी के डिप्रेशन में जाने की History रही हो, किसी वजह से देश छोड़ना पड़ा हो, बचपन में आप किसी प्रताड़ना या Abusing की Condition से गुजर चुके हों, लम्बे समय से कोई बीमारी की दवा ले रहे हो, अचानक परिवार में किसी को या खुद को कोई गंभीर बीमारी होने का पता चले जिसका इलाज या तो  संभव नहीं है या आप इलाज करवा पाने में सक्षम नहीं है।

डिप्रेशन के लक्षण – 

                              डिप्रेशन एक Mental Condition है, जिसके लक्षण  Mental And Physical  दोनों तरह के होते हैं।

 अपने आपको अपने साथ काम कर रहे कर्मचारियों से कमतर आंकना , जो की या तो आपके समान पद पर हैं या आपसे नीचे के पद पर हैं।

किसी भी प्रकार की परेशानी या काम के दौरान पूरी Team में किसी दूसरे से या पूरी Team से हुई गलती के लिए खुद को जिम्मेदार और अयोग्य मानना।

आप अभी मरने की सोच रहे  हैं, क्योंकि इस दुनियां में सबकुछ नकारात्मक हो रहा है, फिलहाल आपके पास कोई सकारात्मक लक्ष्य नहीं है और सोच रहे हैं की अपने जीवन में कोई लक्ष्य बनाने से भी कोई फायदा नहीं है ।

अपने को अकेले में लेजाकर रोने का मन करना या रोना, और अपने आप पर अफ़सोस करना की आप इस दुनियां में क्यूँ हैं। ज्यादातर समय अकेले रहने का मन करना।

बीत चुकी life पर अफसोस होना व आगे जीवन जीने की अनिच्छा होना और ये सोचना की मुझे ज्यादा पैसे कमाकर क्या करना है।

आपका दिमाग लगातार नकारात्मक न्यूज़ देखने और नकारात्मक चीजों की तरफ आकर्षित होने लगता है।

किसी भी पारिवारिक और सामाजिक फंक्शन में इसलिए जाने से डरना ताकि आपको किसी से बात ना करनी पड़े और आपको कोई हाल -चाल ना पूछे।

 डिप्रेशन में एकाग्रता की कमी की वजह से छोटे – छोटे निर्णय लेने में परेशानी  होती है जैसे – रेलवे स्टेशन पर बैठकर टिकट पहले से कन्फर्म होने और बिना कोई परेशानी के बावजूद ये सोचना की जाना या नहीं जाना।

किसी भी काम पर Focus नहीं रह पाता है, दिमाग धीमे सोचने लगता है।

बिना कोई Physical Work के शरीर में Energy की कमी व लगातार शरीर में थकान होने के साथ – साथ उदासी होना,  अत्यधिक चिड़चिड़ापन होना।

थकान होने के बावजूद रात में नींद काम आना , व दिन में अत्यधिक नींद आना। वजन घटने लगना। कोई भी काम धीरे करना व धीमे चलना।

                                    यदि आप इन मानसिक और शारीरिक लक्षणों को अपने जीवन में लगातार कुछ समय से देख रहे हैं तो आपको डरने की कोई जरुरत नहीं है आप आसानी से इससे बाहर आ सकते हैं।

डिप्रेशन को ऐसे खत्म करें  –

                                          सबसे पहले आप ये स्वीकार करें की आप डिप्रेशन के शिकार हैं और ये Decide करें की आपको डिप्रेशन को हराना है।

अपने आपको कभी अकेला ना रहने दें, रात को जब तक नींद ना आने लगे तब तक अपने आप को अकेला अकेला ना होने दें ,जहाँ भी हो लोगों से घुलने – मिलने की कोशिश करें, लोगों की गॉसिप में भी शामिल हो सकते हैं क्योंकि डिप्रेशन से ज्यादा नुकसान गॉसिप आपका नहीं कर सकती है।

ऐसे लोगों के साथ रहने की कोशिश करें जो की कोई लक्ष्य लेकर चल रहे हों, और आपके साथ Friendly हो सकें और आप अपने लिए भी कोई छोटा सा लक्ष्य तय कर सकतें हैं जैसे नई जॉब के लिए  Interview देना, भले ही आप जॉब नहीं बदलना चाहते हों ,आप Interview में सफल हो जाते हैं तो ये एक जॉब Interview भी आपको डिप्रेशन से चमत्कारिक रूप से बाहर निकाल सकता है।

ऐसे कॉमेडी शो प्रोग्राम और कॉमेडी फिल्में देखें जो आपको हंसने पर मजबूर कर दें।

कुछ भी ऐसा करें जिसमे आपको थोड़ा Struggle करना पड़े, कुछ भी नया करने करने की कोशिश करें जो आपको असंभव लगता हो।

Motivational और Inspirational वीडियो देखें, ऐसे खेल देखें जो उत्साह से भरपूर हों जैसे – कबड्डी,रग्बी आप कोई खेल में रूचि रखते हों तो खेलें इसमें आपके जीतने से आपको नया जोश मिलेगा और खुद को काबिल मानने का भाव आपमें जागेगा।

रोज नियमित रूप से Physical Exercise करें, नियम बनाएं की रोज एक घंटे Walking करेंगे, रोज रात को सोने से पहले कल के सारे काम यानि उठने का समय, Physical Exercise का समय, नहाने का समय, नास्ते का समय से लेकर दिन में कामों के अलावा रात को खाने व सोने के समय तक का Routine और टाइम लिखकर Follow करें।

दिन में सोने से बचें।

लोग जिन पर आप Trust कर सकें और वो लोग आपका मजाक उड़ाने और आपकी समस्या को किसी दूसरे का ना बताएं, जो आपके परिवार से भी हो सकते हैं और मित्र भी हो सकते हैं के साथ ज्यादा से ज्यादा रहने  कोशिश करें।

मेडिकल सुविधाओं का लाभ लें, किसी जाने माने मनोरोग Specialist को अपनी Problem  बताएं, आज अच्छी Antidepressant Medicine उपलब्ध हैं, इनको मनोरोग Specialist की सलाह के अनुसार लें। ये आपको तीन से चार महीने में भी ये पूरी तरह उबार सकती हैं, दवाओं को जब तक लेते रहे तब तक आप पूरी तरह डिप्रेशन से बाहर नहीं निकल जाते हैं, Medicine को  मनोरोग Specialist के कहने पर ही बंद करें।

[mc4wp_form id=”1974″]

Leave a comment