काम टालने की आदत कैसे छोड़ें।how to stop procrastinating in hindi

how to stop procrastinating in hindi

” आप आज जो कर रहे हैं वो ही आपके भविष्य की दिशा तय करेगा “

आज नहीं आज मन नहीं कर रहा कल करेंगे और बस कुछ देर में ख़त्म कर देंगे और कल कभी आता नहीं और हमारा काम कभी खत्म नहीं होता। काम टालने की आदत हमे हमेशा हर जगह फिसड्डी साबित कर देती हैं और अंत में हम हारने को मजबूर हो जाते हैं।

काम टालने की आदत के पीछे कई कारण होते हैं। कई बार हम इस डर में रहते हैं की यदि हम ये काम सही तरीके से नहीं कर पायेंगे तो क्या होगा और हम कार्य गलत होने की सम्भावना के कारण काम ही नहीं करते।

सफलता की चाहत भी आलसी लोगों को बहुत बार डरा देती है की इसके लिए ना जाने कितना काम करना पड़ेगा और हम सफलता की चाहत ही छोड़ देते हैं।

काम टालने की आदत से निपटना आसान है कुछ टेक्निक्स आपकी ये आदत छुड़वा देंगी।

अपने दिमाग को फिर से ताजा करें

दिमाग को कुछ नया फील करवाएं क्योंकि थका हुआ दिमाग लगातार एक ही तरीके से रोज चलते – चलते एडवेंचर को खो देता हैं , एक दिन के लिए किसी समुद्री बीच पर घूमने जाएँ या फिर कुछ दिन की छुट्टी लेकर कहीं बाहर जाएँ जहाँ काम का बोझ आपको परेशान नहीं करे, इस बात का ध्यान रखें की आप या तो अकेले जाएँ या फिर अपने पार्टनर के साथ, बच्चे साथ होने से आप एडवेंचर का मजा नहीं ले पाएंगे। जब आप फिर से काम पर आएंगे तो आप जान जायेंगे की ये तरीका कितना कारगर है।

अपनी क्षमता से कम का लक्ष्य तय करें

अप्रत्याशित लक्ष्य हमे कार्य में टालमटोल करने को मजबूर कर देते हैं। अगले दिन मॉर्निंग में उठकर पांच हजार कदम वाकिंग करने का लक्ष्य तय ना कर पहले दिन सिर्फ पांच सो कदम ही चलने का लक्ष्य तय करना चाहिए, कल से ही पचास पुश-अप्स लगाने से शुरुआत ना करने की बजाय पांच पुश-अप्स से शुरुआत करें। अगले दिन से मॉर्निंग में जल्दी पांच बजे उठने की बजाय रोज जिस समय उठते हैं उससे सिर्फ बीस मिनट पहले उठने का लक्ष्य बनाएं।

कार्य तय करें

हम कार्य को पूर्व में तय नहीं करते की हमे सही में करना क्या है, और जैसे – जैसे हमारा मन हमे कहता है हम वैसे – वैसे ही काम करते जाते हैं, ये काम करने का तरीका छोड़कर हमे ये तय करना ही हमे क्या काम करना है उसके अनुसार अपनी कार्य योजना बनाकर अपने दिमाग को स्पष्ट सन्देश देने से हमारा दिमाग उस कार्य को पूरा करने में हमे फोकस्ड रखता है।

कार्य को टुकड़ों में विभाजित करें

अक्सर हम किसी बड़े कार्य को टुकड़ों में तोड़ने की बजाय पूरा एक साथ करने की कोशिश में कई दिनों या फिर कुछ महीनों तक टालते रहते हैं, और सोचते हैं की एक साथ ही कर देंगे। अंत में ये काम हमारे ऊपर बोझ बन जाता है और पूरा हो पाना असंभव हो जाता है, इसलिए बड़े लक्ष्यों का पीछा करने के लिए काम को छोटे – छोटे टुकड़ों में विभाजित कर लें।

अपने आप को गिफ्ट दें

कार्य पूरा होने के बाद अपने आपको आइसक्रीम खिलाएं या फिर कोई मूवी देखें। अपने आपको गिफ्ट देने से आपका दिमाग कार्य के पूरा होने की कल्पना के बाद मिलने वाले सुखद एहसास की आशा में आपको लगातार कार्य में लगाए रखेगा।

याद रखें साहसी लोग दुनियां पर राज करते हैं

बुजदिलों से जंगल भरे पड़े हैं पर राजा कहलाने का हक़ सिर्फ शेर को है, इस दुनियां में साहसी लोगों के ही स्टेच्यु बनाये जाते हैं और उनकी कहानियां दुनिया सालों पढ़ती और सुनती हैं। पैदा होने और फिर मरने वाले लाखों – करोड़ों लोगों में किताबें सिर्फ उन्ही लोगों के नाम और काम अपने में समाये रखती हैं जिनके नाम एक ही पन्ने में लिखे जा सकें।

Leave a comment