जब होसलो में हो दम तो आसमान कदमों में होता है।When the morale are in the sky, the sky is in the steps in hindi

When the morale are in the sky, the sky is in the steps in hindi

” जिंदगी को जीना बहादुरों का काम है साल तो बुजदिल गिना करते हैं “

कोई भी यात्रा बिना चढाव और उतार के पूरी नहीं होती और हमारी जिंदगी भी एक यात्रा है जो हमे कई बार चढाव और उतार से रूबरू कराती हैं। जहाँ चढाव में हमे ताकत लगानी पड़ती है तो उतार में संयम की जरुरत होती है बिना संयम हम रेलिंग तोड़कर गहरी खाइयों में गिर जाते हैं।

जिस राह में चुनौतियां ही नहीं है वहां चलने में कोई मजा भी नहीं है। हमारी जिंदगी भी चुनौतियों का सामना करके ही हमे जिंदादिल इंसान का तमगा देती हैं नहीं तो बुतों के हाथों में तलवारें नहीं होती।

[mc4wp_form id=”1974″]

हम में से बहुत सारे लोग जिंदगी की चुनौतियों को देखकर पीछे हट जाते हैं पर जो पीछे नहीं हटते वो ही टॉप पर पहुँचते हैं और दुनियां आँखे उठाकर उनकी और देखती है और कहती है वाह क्या कमाल है।

टॉप पर पहुंचे लोगों की कहानियां हमे टॉप पर पहुंचने की प्रेरणा देती हैं। उनके अनुभव हमे रास्ते की मुश्किलों से लड़ने का तजुर्बा देते हैं और हम अपना सर उठाकर चल देते हैं अपनी मंजिलों की और टॉप पर पहुंचने की चाह में।

हम चलते हैं शान से और तोड़ देते हैं मुश्किलों का गुरूर और जब हम टकराते हैं तो वो मुश्किलें कहीं नहीं ठहरती। क्योंकि उनको राह में रुकना होता है और हमे टॉप पर पहुंचना होता है।

टॉप पर पहुंचने वालों को भी भला कभी मुश्किलें रोक पाई हैं आज तक तो नहीं। हजारों आये हैं इस धरती पर अपने अरमानों की थाली लेकर राह की मुश्किलों ने हमेशा मारी है ठोकर अरमानों से भरी थालियों को पर अरमानों को कभी बिखेर नहीं पाई।

कायरों की गिनतियाँ कभी हो नहीं पाई क्योंकि शूरवीरों के सर ऊँचे होते हैं और नीचे सर करके घूम रहे कायरों को कोई देख ही नहीं पाया। जो सर ऊँचा करके चलते हैं तूफान तो उनसे ही लड़ने की इच्छा रखते क्योंकि उनके सर ऊँचे होते हैं, निचे सर कर के चलने वाले तो लहरों में ही बह जाते हैं।

लड़ने वालों के होसलो को देखकर तो बड़े से बड़े तूफान रास्ता बदल लेते हैं, जब निकल रही हो अंदर से आग तो फिर बाहर वालों में कहाँ दम की वो बुझा सकें।

मौत भी उनकी प्रतीक्षा करती हैं जिनके पास मौत को याद करने का समय नहीं है और जिनके पास मौत को याद करने के सिवा कुछ नहीं है वो तो वैसे ही मरे पड़े हैं मौत के पास उनको उठाने का समय नहीं है।

Leave a comment